आप और कांग्रेस का दिल्ली गठबंधन: लोकसभा चुनावों के लिए सीटों पर सहमति

Photo of author

By Sunil Chaudhary

दिल्ली की सात लोकसभा सीटों पर एक दशक से जीत दर्ज न कर पाने के कारण, आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस ने आगामी चुनावों में संयुक्त रूप से प्रतिस्पर्धा करने का निर्णय लिया है। दोनों दलों का यह गठबंधन उनके साझा वोट बैंक और तीन-पक्षीय मुकाबले में भाजपा को लाभ पहुंचाने की संभावना को देखते हुए किया गया है।

आप और कांग्रेस का दिल्ली गठबंधन: लोकसभा चुनावों के लिए सीटों पर सहमति

इस समझौते में जमीनी हकीकतों के बदलाव, दलों की महत्वाकांक्षाएं, और उनके साझा वोट बैंक, जो मुख्य रूप से शहर की झुग्गी बस्तियों, अवैध कॉलोनियों, अल्पसंख्यकों, और निम्न मध्यम वर्ग की आबादी में सम्मिलित हैं, का भी ध्यान रखा गया है।

आप के एक नेता ने कहा, “जब हमने अलग-अलग प्रतिस्पर्धा की, तो हमने भाजपा के लिए स्थिति को और अधिक अनुकूल बना दिया। लेकिन इस बार, दोनों दल साझा शत्रु के खिलाफ एक साथ लड़ेंगे, जिससे दशकों की विरोधी लहर का सामना करना पड़ेगा।”

सूत्रों के अनुसार, जहां आप ने अपनी सरकार के काम, विधायकों के जमीनी समर्थन, और पार्टी प्रमुख व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की लोकप्रियता पर भरोसा करते हुए अपनी चार सीटों का चयन किया, वहीं कांग्रेस ने शहर की अल्पसंख्यक, आरक्षित श्रेणी, और आर्थिक रूप से कमजोर समुदायों पर अपनी संभावनाएं टिकाई हैं।

आप के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, “कांग्रेस ने शुरुआत में हमें पांच-दो सीटों का प्रस्ताव दिया, जिसमें 2019 के लोकसभा चुनावों में उसे पांच सीटों पर दूसरा स्थान मिला था और आप को दो में। हालांकि, हमारा प्रतिकार था कि आप ने पिछले पांच वर्षों में दिल्ली में भारी बहुमत से सरकार बनाई है और नगर निगम का नियंत्रण भी हासिल किया है, जो 15 वर्षों तक भाजपा के नेतृत्व में था। इससे स्पष्ट होता है कि 2019 के बाद से हमारी लोकप्रियता में वृद्धि हुई है।”

कांग्रेस ने आखिरकार चांदनी चौक और उत्तर पूर्वी दिल्ली के लिए सहमति जताई, और उत्तर पश्चिम दिल्ली से भी चुनाव लड़ेगी। आप के उम्मीदवार नई दिल्ली, दक्षिण दिल्ली, पश्चिम दिल्ली, और पूर्वी दिल्ली में प्रतिस्पर्धा करेंगे।

यह गठबंधन न केवल दिल्ली में राजनीतिक समीकरणों को बदलने का प्रयास है, बल्कि यह भाजपा को कड़ी टक्कर देने की रणनीति का भी हिस्सा है। दोनों दलों का मानना है कि उनकी साझा रणनीति से न केवल उन्हें अपने-अपने वोट बैंक को मजबूत करने में मदद मिलेगी, बल्कि यह भाजपा के विरुद्ध एक मजबूत चुनौती भी पेश करेगी।

Leave a Reply

Discover more from Jai Bharat Samachar

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading