कांग्रेस की गिरावट: एक ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य

Photo of author

By Sunil Chaudhary

भारतीय राजनीति में कांग्रेस पार्टी की गिरावट एक ऐसा विषय है जिसने विद्वानों और राजनीतिक विश्लेषकों का ध्यान खींचा है। 1971 में एशियाई सर्वे पत्रिका में प्रकाशित एक लेख में, अमेरिकी राजनीतिक वैज्ञानिक मायरन वीनर ने कांग्रेस के प्रदर्शन में गिरावट के कई कारणों की पहचान की। इनमें सूखा, बढ़ती कीमतें, दो युद्ध, दो प्रधानमंत्रियों की मृत्यु, बढ़ते भ्रष्टाचार, और रुपये के मूल्यांकन में अलोकप्रिय निर्णय शामिल थे।

कांग्रेस की गिरावट: एक ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य

इसी समय, कांग्रेस की अजेयता की धारणा को 1963 से गैर-कांग्रेस पार्टियों और समूहों के बीच कुछ कुशल चुनावी व्यवस्थाओं ने चुनौती दी। 1967 में, उत्तर प्रदेश में जन संघ ने गौहत्या पर राष्ट्रीय प्रतिबंध की मांग करते हुए साधुओं के मार्च की पीठ पर सवार होकर 98 सीटें हासिल कीं। इसके बाद, जन संघ, समाजवादियों, स्वतंत्र पार्टी और कम्युनिस्टों जैसी विपक्षी पार्टियों द्वारा गठित संयुक्त विधायक दल (एसवीडी) सरकारें, उत्तर प्रदेश और बिहार सहित कई राज्यों में उभरीं।

हालांकि, ये और अन्य अस्थिर सरकारें जल्द ही गिर गईं, जिसके कारण हरियाणा, बिहार, नागालैंड, पंजाब, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल में मध्यावधि चुनाव हुए। इसने समानांतर मतदान अनुसूची में पहली बार व्यवधान पैदा किया। 1971 में, इंदिरा गांधी का लोकसभा चुनाव कराने का निर्णय पूरी तरह से चक्र को बाधित कर दिया, जिससे भारतीय राजनीति में एक नया युग शुरू हुआ।

कांग्रेस की गिरावट का यह ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य भारतीय राजनीति की गतिशीलता को समझने में महत्वपूर्ण है। यह दिखाता है कि कैसे विभिन्न घटनाएं और राजनीतिक निर्णय एक राजनीतिक दल की धारणा और प्रभाव को आकार दे सकते हैं।

Leave a Reply

Discover more from Jai Bharat Samachar

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading