बागपत लोकसभा सीट 2024: चौधरी परिवार और RLD-BJP गठबंधन का प्रभाव

Photo of author

By Sunil Chaudhary

बागपत सीट पर चौधरी परिवार के इतिहास और 2024 के चुनावों में परिवार के किसी भी सदस्य के न लड़ने के कारणों की वजह से राजनीतिक गलियारों में काफी चर्चा है। जयंत चौधरी, जो राष्ट्रीय लोकदल (RLD) के प्रमुख हैं, ने उत्तर प्रदेश में 2024 के लोकसभा चुनावों के लिए भारतीय जनता पार्टी (BJP) के साथ गठबंधन की पुष्टि की है। इस गठबंधन के तहत, RLD को बागपत और बिजनौर में दो लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का मौका मिलेगा, साथ ही उन्हें एक राज्यसभा सीट का भी वादा किया गया है​​।

Rashtriya Lokdal Chaudhary Charan Singh Ajit Singh Jayant Chaudhary बागपत लोकसभा सीट 2024: चौधरी परिवार और RLD-BJP गठबंधन का प्रभाव

चौधरी परिवार के इतिहास को देखते हुए, यह गठबंधन काफी महत्वपूर्ण है। बागपत लोकसभा क्षेत्र, जो उत्तर प्रदेश में आता है, चौधरी परिवार की परंपरागत सीट रही है। जयंत चौधरी के पिता अजीत सिंह और दादा चौधरी चरण सिंह, जो भारत के पूर्व प्रधानमंत्री भी थे, इस क्षेत्र से चुनाव लड़ चुके हैं। ऐसे में, इस बार परिवार का कोई सदस्य चुनाव मैदान में न होना चर्चा का विषय बना हुआ है​​।

इस गठबंधन के पीछे की रणनीति और चौधरी परिवार के इतिहास को समझने के लिए, यह जानना जरूरी है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश, खासकर बागपत क्षेत्र, में जाट समुदाय का प्रभाव अधिक है और RLD का यह परंपरागत आधार रहा है। इस गठबंधन के जरिए, BJP को इस क्षेत्र में अपनी पकड़ मजबूत करने की उम्मीद है, जबकि RLD को बड़े राजनीतिक मंच पर अपनी उपस्थिति बनाए रखने का मौका मिलेगा। इस गठबंधन से उम्मीद की जा रही है कि यह परिवार की राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ाने में मदद करेगा, भले ही इस बार परिवार का कोई सदस्य सीधे चुनावी मैदान में न हो​​​​।

चौधरी परिवार की राजनीतिक यात्रा और उसका बागपत सीट पर इतिहास उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक महत्वपूर्ण अध्याय है। परिवार के मुखिया, चौधरी चरण सिंह, भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और जमीनी स्तर के किसान नेता थे। उनकी विरासत और उनके पुत्र अजीत सिंह ने बागपत सीट पर अपनी गहरी छाप छोड़ी है। इस क्षेत्र में उनका व्यापक प्रभाव रहा है, और वे कई बार इस सीट से चुनाव जीत चुके हैं।

हालांकि, 2024 के आम चुनावों में चौधरी परिवार से कोई भी सदस्य बागपत सीट से चुनाव नहीं लड़ रहा है, जो कि एक बड़ा बदलाव है। इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं, जैसे कि राजनीतिक गठबंधन, पार्टी की रणनीतिक योजनाएं, या परिवार की आंतरिक स्थिति। राष्ट्रीय लोकदल (RLD) के मौजूदा प्रमुख, जयंत चौधरी ने BJP के साथ गठबंधन की पुष्टि की है, जिसके तहत RLD को बागपत और बिजनौर से दो सीटों पर चुनाव लड़ने का मौका मिलेगा​​।

इस गठबंधन का मुख्य उद्देश्य पार्टी के लिए एक नई राजनीतिक दिशा प्रदान करना और उसे मजबूत बनाना है। जयंत चौधरी का यह निर्णय पार्टी के लिए एक नई रणनीति का हिस्सा हो सकता है, जिससे RLD को राजनीतिक मानचित्र पर मजबूती से स्थान मिल सके। इस गठबंधन के जरिए RLD को न केवल एक बड़े राष्ट्रीय दल के साथ सहयोग का अवसर मिला है, बल्कि उसे राज्यसभा में प्रतिनिधित्व का वादा भी किया गया है​​।

बागपत और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के क्षेत्र में चौधरी परिवार और RLD की जड़ें गहरी हैं। इस नए राजनीतिक समझौते के जरिए, यह संभव है कि पार्टी अपने परंपरागत वोट बैंक को संभालते हुए नई राजनीतिक ऊंचाइयों को छूने का प्रयास करेगी। यह गठबंधन आगामी चुनावों में RLD की रणनीति और भविष्य की दिशा के लिए निर्णायक सिद्ध हो सकता है।

राहुल गांधी के विवादित बयान से उठा राजनीतिक तूफान

Read More About Elections 2024 in India

Logo of Rashtriya Lokdal

Promote Your Business HERE

Leave a Reply

Discover more from Jai Bharat Samachar

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading