चिड़ियाघरों में सीता और अकबर से आगे बढ़ते हुए राम, मुमताज, तेंदुलकर और आज़ादी का जश्न

Photo of author

By Sunil Chaudhary

भारत भर के चिड़ियाघरों में वर्षों से जानवरों को नाम देना कभी विवाद का विषय नहीं बना। गुजरात के जूनागढ़ चिड़ियाघर में 1970 के दशक में शेर राम और शेरनी मुमताज को जोड़ा गया, जबकि मैसूर चिड़ियाघर में 1980 में बाघिन राधा और बाघ कृष्ण के बच्चों का नाम मुमताज और सफदर रखा गया।

चिड़ियाघरों में सीता और अकबर से आगे बढ़ते हुए राम, मुमताज, तेंदुलकर और आज़ादी का जश्न

हाल ही में, कोलकाता हाईकोर्ट ने देवताओं और लोगों द्वारा पूजे जाने वाले प्रमुख व्यक्तित्वों के नाम पर चिड़ियाघर के जानवरों का नामकरण करने के खिलाफ चेतावनी दी। इसके बाद, त्रिपुरा ने अपने शीर्ष वन अधिकारी को दो शेरों का नाम सीता और अकबर रखने के लिए निलंबित कर दिया।

इस विषय पर बात करते हुए, पूर्व चिड़ियाघर कीपर ने कहा, “चाहे वह बड़ी बिल्ली हो या एप, जब किसी कैदी जानवर को व्यक्तिगत रूप से संभालने की जरूरत होती है, तो संवाद के लिए घरेलू नाम आवश्यक होता है।”

इतिहास और मिथकों से प्रेरित नामों के बावजूद, केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण (CZA) और वन्यजीव संस्थान भारत (WII) के पूर्व निदेशक पी. आर. सिन्हा ने कहा, “कभी-कभी जानवरों के नामकरण में जो यादृच्छिकता दिखाई देती है, वह और भी हास्यास्पद होती है।”

चिड़ियाघरों में जानवरों के नामों को बदलने की सिफारिश कोलकाता हाईकोर्ट द्वारा की गई थी, लेकिन एक गुजरात स्थित चिड़ियाघर वेटरनेरियन ने कहा, “जानवरों के लिए नए नामों के प्रति प्रतिक्रिया देना रातोंरात संभव नहीं है।”

जानवरों के नामकरण पर यह नई बहस भारतीय चिड़ियाघरों में एक नई चर्चा को जन्म दे रही है, जहां परंपरा और समकालीन संवेदनशीलताओं के बीच एक संतुलन बनाने की आवश्यकता है।

Leave a Reply

Discover more from Jai Bharat Samachar

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading