केजरीवाल के पूर्व दुश्मन सोनिया गांधी के साथ रैली का आयोजन: रामलीला मैदान में उत्तरदायित्व का बदलाव

Photo of author

By Sunil Chaudhary

31 मार्च 2024, 12:00 बजे, नई दिल्ली: राजनीति के ये वक्त हैं, जब एक ही व्यक्ति दोनों पक्षों के साथ अलग-अलग चेहरे बना सकता है। दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता अरविंद केजरीवाल ने एक बार फायरब्रांड विपक्षी के रूप में सोनिया गांधी और कांग्रेस पार्टी के खिलाफ बोले थे, लेकिन अब उनकी पार्टी के एक रैली में सोनिया गांधी भाग लेने वाली हैं। यह एक रोमांचक उलटफेर है, जो राजनीति की खेली गई है।

कुछ समय पहले, अरविंद केजरीवाल ने ‘भारत विरोधी भ्रष्टाचार’ के माध्यम से समाज को उठाने का वादा किया था, और उन्होंने उस समय कांग्रेस पार्टी के खिलाफ कड़ी आलोचना की थी। उनकी पार्टी ने विशेष रूप से सोनिया गांधी और राहुल गांधी के खिलाफ आवाज़ उठाई थी, जिसके बाद उन्हें राजनीतिक दलों की सुपारी मिली थी।

लेकिन आज, उनकी पार्टी का स्वर्णिम अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल और कांग्रेस की अध्यक्षा सोनिया गांधी नई दिल्ली के रामलीला मैदान में एक साथ रैली का आयोजन करेंगे। इसके साथ ही, AAP ने कांग्रेस के साथ गठबंधन की समर्थन में अपने पैरों की तलाश में कदम रखा है।

इस रैली के माध्यम से, दोनों पार्टियों ने वामपंथी और कांग्रेस-लोकतंत्रिक पार्टी के एकीकरण के खिलाफ अपने नजरिए को साझा किया है। केजरीवाल और सोनिया गांधी ने इस घटना के माध्यम से एक साथ एक पलक जुड़ा है, जो राजनीति में एक नया मोड़ है।

Leave a Reply

Discover more from Jai Bharat Samachar

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading