लोकसभा चुनाव: यूपी में असदुद्दीन ओवैसी ने T-20 योजना बनाई, सपा-कांग्रेस में उत्पन्न हुई उत्तेजना, जानिए इसके बारे में क्या है।

Photo of author

By Gulam Mohammad

Lok Sabha Election: 2022 विधानसभा चुनाव में असदुद्दीन ओवैसी ने 95 उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था. इनमें से 94 की जमानत जब्त हो गई थी.

लोकसभा चुनाव: यूपी में असदुद्दीन ओवैसी ने T-20 योजना बनाई, सपा-कांग्रेस में उत्पन्न हुई उत्तेजना, जानिए इसके बारे में क्या है।

Lok Sabha Election 2024: लोकसभा चुनाव करीब हैं, ऐसे में तमाम पार्टियां एक्शन मोड में है. वहीं, ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) ने भी कमर कस ली है. पार्टी उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ने के लिए तैयार है. असदुद्दीन ओवेसी की यूपी में एंट्री के बाद से इंडिया अलायंस में खलबली मची हुई है.

ओवैसी ने यूपी की उन सीटों पर उम्मीदवार उतारने का फैसला किया है, जहां मुसलमान वोटर्स की संख्या काफी ज्यादा है. इनमें अलीगढ़, सहारनपुर, बिजनौर, कैराना, संभल, अमरोहा, आजमगढ़ और बुलंदशहर जैसी सीट शामिल हैं. माना जा रहा है कि ओवैसी के उम्मीदवार समाजवादी पार्टी और कांग्रेस का सियासी समीकरण बिगाड़ सकते हैं.

बिगड़ेगा यादव और मुस्लिम समीकरण
संभल, मुरादाबाद, आजमगढ़ और मैनपुरी वह सीटें हैं, जहां 2019 में अखिलेश यादव ने जीत की. अखिलेश यादव इस बार भी यहां से यादव और मुस्लिम समीकरण के सहारे जीतने की योजना बना रहे हैं. हालांकि, इस बार इन सीट पर ओवैसी की भी नजर है. ओवैसी के प्रत्याशियों के यहां से चुनाव लड़ने से सपा के वोट बैंक पर डेंट लगना तय माना जा रहा है.

विधानसभा में 95 सीट पर लड़ी थी AIMIM
2022 विधानसभा चुनाव में भी ओवैसी ने 95 उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था. इनमें से 94 की जमानत जब्त हो गई थी. ओवैसी के पूरा जोर लगाने के बावजूद भी AIMIM यूपी में अपना खाता नहीं खोल सकी थी. हालांकि, कई सीटों पर उसने सपा के नेताओं के वोट बैंक में सेंधमारी की. 2022 में लगभग 8 सीट ऐसी थीं, जहां ओवैसी ने अखिलेश की साइकिल को पंचर कर दिया था.

यूपी में मस्लिम वोट बैंक
2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को 14 प्रतिशत, बीजेपी को 8, सपा-बसपा गठबंधन को 73 प्रतिशत और अन्य को 5 फीसदी वोट मिला था. ऐसे में मुस्लिम वोटरों का रुझान जरा भी AIMIM की तरफ हुआ तो इंडिया अलायंस का पूरा प्लान चौपट हो जाएगा. यूपी में मुसलमानों की कुल आबादी लगभग 20 फीसदी है, जो पश्चिमी यूपी में बढ़कर 26 प्रतिशत हो जाती है. इसके अलावा यूपी की 21 सीट ऐसी हैं, जहां मुस्लिम आबादी 21 प्रतिशत है. ओवैसी की नजर इन्हीं सीटों पर है.

किसे टारगेट कर रहे हैं ओवैसी
ओवैसी सीधे यूपी के मुसलमानों को टारगेट कर रहे हैं. वह उन्हें मु्द्दो को उठा रहे हैं, जो मुस्लिम राजनीति पर फिट बैठते हैं. ओवैसी मुस्लिम वोट बैंक को साधने के लिए राम मंदिर, तीन तलाक, सीएएम, यूनिफॉर्म सिविल कोड, हिजाब मामला, आर्टिकल 370, ज्ञानवापी जैसे मुद्दों को उठा रहे हैं. जानकारी के मुताबिक यूपी की जिन 20 सीट पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहें, वहां उम्मीदवारों के नाम का तय हो गए हैं.

Leave a Reply

Discover more from Jai Bharat Samachar

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading