राज्यसभा चुनाव: भाजपा ने हिमाचल में कांग्रेस को चौंकाया, यूपी में एसपी को उलटा तजा, कई विधायकों ने क्रॉस-वोटिंग की

Photo of author

By Gulam Mohammad

भारतीय राजनीति के पर्वतीय क्षेत्र में चल रहे राज्यसभा चुनाव में भाजपा ने एक बार फिर बड़ी बजाई ताल, जब वह हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस को और उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (एसपी) को पीछे छोड़कर आगे बढ़ी। इसमें कई विधायकों ने क्रॉस-वोटिंग की, जिससे चुनावी परिणाम में बड़ा उलटफेर हुआ।

BJP Congress Modi Rahul Elections 2024 Politics India

 

हिमाचल प्रदेश में, जहां बीजेपी की सरकार पहले से ही शक्तिशाली है, वहां भाजपा ने अचानक उम्मीदवार को बनाकर कांग्रेस को चौंका दिया। कांग्रेस की विधायक दल में कई सदस्यों ने अनुशासन तोड़कर बीजेपी के पक्ष में वोट डाला। इससे भाजपा को राज्यसभा सीट जीतने में कोई कठिनाई नहीं आई।

उत्तर प्रदेश में भी बीजेपी ने कमजोर विपक्षी पार्टियों को पीछे छोड़ दिया। यूपी में भाजपा के नेतृत्व में सरकार है, लेकिन इस बार वहां भी चुनावी रणनीति और विधायकों की क्रॉस-वोटिंग के कारण समाजवादी पार्टी के हाथों में अपनी एक और सीट जाने का सामना करना पड़ा।

यह विचारक है कि कई विधायकों ने अपने पार्टियों की विचारधारा को छोड़कर चुनावी दलाली की गतिविधियों में शामिल होकर वोट डाला। इसके पीछे राजनीतिक रंगभेद, सत्ता की भूख और अपने हितों की प्राथमिकता रखने की भावना शामिल हो सकती है।

चुनावी विपरीत परिणामों के बावजूद, भारतीय राजनीति में यह नया मोड़ है कि विधायकों की स्वतंत्रता और स्वाधीनता की मांग को लेकर उन्हें बड़े परिवर्तन का सामना करना पड़ रहा है। यह स्वाभाविक है कि राजनीतिक दलों को इस पर गहरा विचार करने की आवश्यकता है और उन्हें अपनी शक्ति को निर्देशित करने के लिए नई रणनीतियों को विकसित करने की जरूरत है।

यह समय है कि राजनीतिक दल विधायकों के साथ गहरी गहराई से संवाद करें और उनकी मांगों को समझें। इसके अलावा, विधायकों को संविधानीय दायित्वों के प्रति जिम्मेदारी का एहसास होना चाहिए और वे अपने वोट का निर्णय लेते समय नेतृत्व की बजाय लोकतंत्र के मूल्यों को महसूस करें।

आखिरकार, यह चुनाव राजनीतिक संगठनों के लिए एक सख्त सबक होना चाहिए कि वे विधायकों की मानसिकता और उत्साह को समझें, उनकी समस्याओं का हल निकालें और लोकतंत्र के मूल्यों को सुरक्षित रखने के लिए प्रतिबद्ध रहें। नहीं तो, वोटरों का भरोसा उन परिवर्तनकारियों में खो सकता है, जो खुद को सिर्फ सत्ता के लिए लड़ते हैं, न कि जनता के हित के लिए।

Leave a Reply

Discover more from Jai Bharat Samachar

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading