एसपी ने 2022 से बची हुई साथी अपना दल (के) की धोखाधड़ी का खुलासा किया

Photo of author

By Gulam Mohammad

एसपी ने 2022 से बची हुई साथी अपना दल (के) की धोखाधड़ी का खुलासा किया

एसपी ने 2022 से बची हुई साथी अपना दल (के) की धोखाधड़ी का खुलासा किया

एक अचानक पलटाव के साथ, समाजवादी पार्टी (एसपी) ने अपने दीर्घकालिक साथी, अपना दल (के) के साथ संबंधों को समाप्त करने का फैसला किया है, जिसे असंगतता और राजनीतिक विचारधारा में समर्थन की कमी के कारण दिया गया है। यह कदम अपना दल (के) के लिए एक धक्का है, जो 2022 से एसपी का एकमात्र साथी रहा था।

दोनों पार्टियों के बीच अंतर का पर्दाफाश एसपी की शीर्ष नेतृत्व द्वारा आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान हुआ। पार्टी के प्रवक्ता, अनुष्का पटेल, ने अटल निश्चय के साथ पार्टी का फैसला व्यक्त किया, “समाजवादी पार्टी अब अपना दल (के) के साथ गठबंधन नहीं जारी रख सकती क्योंकि शासन और सामाजिक न्याय के प्रति हमारी दृष्टिकोण में मौलिक अंतर है। हमारा उत्तर प्रदेश के लिए दृष्टिकोण को कमजोर नहीं किया जा सकता।”

अपना दल (के) के साथ गठबंधन को समाप्त करने का फैसला उत्तर प्रदेश की राजनीतिक परिदृश्य में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन को दर्शाता है, जहां एसपी और अपना दल (के) ने पहले मिलकर एक प्रभावशाली गठबंधन बनाया था। यह कदम अपना दल (के) को खतरनाक स्थिति में छोड़ता है, क्योंकि अब यह राज्य में किसी मुख्य सहयोगी के बिना है।

एसपी के अंदरीय स्रोत इसे भारी हाथ से नहीं लिया गया है और पार्टी की शीर्ष नेतृत्व में महीनों के चर्चा के बाद इस निर्णय का पालन किया गया है। माना जाता है कि मुख्य मुद्दे जैसे जातिवादी राजनीति, सामाजिक कल्याण योजनाएँ और आर्थिक नीतियों पर दोनों पार्टियों के बीच असहमति थी।

अपना दल (के), दूसरी ओर, ने एसपी के निर्णय का महत्व कम किया है, इसे “अस्थायी प्रतिबंध” कहकर नकारा। पार्टी के नेता, रमेश पटेल, ने अपना दल (के) की स्थिति को निर्भरता के साथ राजनीतिक परिदृश्य में नेतृत्व करने की प्रतिभा जताई, कहते हुए, “हम हमेशा लोगों की पार्टी रहे हैं, और हम उत्तर प्रदेश के एक समृद्ध दृष्टिकोण की दिशा में काम करते रहेंगे, समाजवादी पार्टी के समर्थन के साथ या बिना।”

राजनीतिक विश्लेषक अनुमान लगाते हैं कि एसपी और अपना दल (के) के बीच की तनाव स्थानीय चुनावों के लिए दूर-दूर तक फैल सकती है। अब जब दोनों पार्टियाँ स्वतंत्रता से प्रतिस्पर्धा कर रही हैं, तो चुनावी गतिविधियों की दायरिका में एक महत्वपूर्ण बदलाव की उम्मीद है, जो राज्य में अन्य राजनीतिक खिलाड़ियों के लिए नई संभावनाओं की खिड़की खोल सकता है।

जब उत्तर प्रदेश फिर से तेज राजनीतिक प्रचार-प्रसार के लिए तैयार हो रहा है, तो एसपी और अपना दल (के) के बीच का विस्फोट भारतीय राजनीति में गठबंधनों की अनियमितता और चुनावी परिदृश्य को आकार देने वाले परिवर्तनशील गतिविधियों का एक स्पष्ट चेतावनी के रूप में कार्य करता है।

Leave a Reply

Discover more from Jai Bharat Samachar

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading